Sunday, October 7, 2007

दुर्गा भाभीः इन्हें भी याद रखने की जरुरत है

२००७ महिला क्रांतिकारी दुर्गावती देवी की जन्म शताब्दी का वर्ष है। आजादी की क्रांतिकारी धारा में उनको दुर्गा भाभी के नाम से जाना जाता है। वे थीं हिन्द़ुस्तान सोशलिस्ट रिपिब्लक पार्टी का घोषणापत्र लिखने वाले भगवतीचरण वोहरा की पत्नी। दुर्गा भाभी का पूरा जीवन संघर्ष का जीता जागता प्रमाण है। जन्म से ही इनका संघर्ष शुरु हो गया। इनका जन्म इलाहाबाद में ७ अक्टूबर १९०७ को हुआ था। जन्म के दस माह बाद ही उनकी माताजी का निधन हो गया। इसके कुछ समय बाद पिता ने संन्यास ग्रहण कर लिया। अब वे पूरी तरह से माता-पिता के आश्रय से वंचित हो चुकी थी। इसी दौरान रिश्तेदार उनको आगरा ले आए। यहीं उनकी प्रारंभिक शिक्षा हुई। यह शिक्षा किस स्कूल में हुई यह निश्चत नहीं कहा जा सकता। संभवतः यह सेंट जोंस या आगरा कालेज रहा होगा। यहीं भगवती चरण वोहरा भी अपनी पढ़ाई किया करते थे। भगवती चरण वोहरा के पूर्वज तीन पीढ़ी पहले आगरा आकर बस गए थे। बाद में भगवती चरण वोहरा लाहौर चले गए। दुर्गा देवी भी कुछ समय बाद लाहौर चलीं गईं। यहां वह भारतीय नौजवान सभा कह सक्रिय सदस्य हो गईं। तब तक भगत सिंह का ग्रुप भी पंजाब में सक्रिय हो चुका था। भारतीय नौजवान सभा का पहला काम १९२६ में सामने आया। सभा ने करतार सिंह के शहीदी दिवस पर एक बड़ा चित्र बनाया था। इसे दुर्गा भाभी और सुशाला देवी ने अपने खून से बनाया था। सुशीला देवी भगवती चरण वोहरा की दीदी थीं। करतार सिंह ने ११ को साल पहले फांसी दी गई थी तब उसकी उमर १९ साल थी। वह फांसी पर झूलने वाला सबसे कम उमर का क्रांतिकारी था। दुर्गावती की शादी भगवती चरण वोहरा से होने के बाद वे पार्टी के अंदर दुर्गा भाभी हो गईं। पंजाब में उनके सहयोगी भगत सिंह सुखदेव आदि थे। साइमन कमीशन का विरोध करते हुए लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए दस दिसम्बर को जो पार्टी की बैठक हुई थी उसकी अध्यक्षता दुर्गा भाभी ने ही की थी। इसी बैठक में पुलिस अधीक्षक जेए स्काट को मारने का फैसला लिया गया। दुर्गा भाभी ने खुद यह काम करना चाहती थीं लेकिन पार्टी ने यह काम भगत सिंह और सुखदेव को सौंपा। इस दौरान भगवती चरण के खिलाफ मेरठ षड्यंत्र में वारंट जारी हो चुका था। दुर्गा भाभी लाहौर में अपने तीन वर्ष के बच्चे के साथ रहती थीं लेकिन पार्टी में सक्रिय थीं। १७ दिसम्बर को स्काट की गफलत में सांडर्स मारा गया। इस घटना के बाद सुखदेव और भगत सिंह दुर्गा भाभी के घर पहुंचे तक तक भगत सिंह अपने बाल कटवा चुके थे। पार्टी ने इन दोनों को सुरक्षित लाहौर से निकालने की जिम्मेदारी दुर्गा भाभी को दे दी। उन्होंने अपने घर में रखे एक हजार रुपये पार्टी को दे दिए। खुद भगत सिंह की पत्नी उनके साथ कलकत्ता के सफर पर निकल गईं। यह घटना भगत सिंह के साथ जुड़ी होने के कारण सबको पता है। दुर्गा भाभी ने ही कलकत्ता में भगत सिंह के रहने की व्यवस्था की थी। भगत सिंह के एसेम्बली बम कांड के बाद उन्होंने संघर्ष जारी रखा। भगत सिंह को छुडाने के प्रयास में उनके पति की मौत हो गई। भगत सिंह की फांसी और चंद्र शेखर की शहादत के बाद पार्टी संगठन कमजोर हो गया लेकिन दुर्गा भाभी का संघर्ष जारी रहा। १९३६ में बंबई गोलीकांड में उनको फरार होना पड़ा। बाद में इस मामले में उन्हें तीन वर्ष की सजा भी हुई। आजादी के बाद उन्होंने एकाकी जीवन जिया। उन्होंने गाजियाबाद में एक स्कूल मे शिक्षा देने में ही समय लगा दिया। १९९८ में उनकी मृत्यु हो गई। आजादी का इतिहास लिखने वालों ने दुर्गा भाभी के साथ पूरा इंसाफ नहीं किया। उन्हें भी थोड़ी जगह मिलनी चाहिए। आखिर चह भी मादरे हिन्द की बेटी थीं।

3 comments:

महेंद्र मिश्रा said...

कुछ स्वतंत्रता सेनानी भी हमारे देश मे हुए है जिन्हे बहुत कम याद किया जाता है पर स्वतंत्रता संग्राम मे उनकी भूमिका अति महत्वपूर्ण थी और आज़ादी क़ी लड़ाई मे उनका अप्रतीं योगदान रहा है | आपने दुर्गा भाभी को याद कर उनकी स्म्रति को जीवित कर दिया है | अच्छा लेख सराहनीय प्रयास के लिए साधुवाद

इरफ़ान said...

आप ठीक कहते हैं, कई दूसरे व्यक्तियों की तरह दुर्गा भाभी को भुला दिया गया है. दूरदर्शन नें 1997 में उन पर एक कार्यक्रम बनाने की योजना बनाई थी और तब मुझे यह ज़िम्मेदारी दी गयी थी कि मैं एक जायज़ा लेकर आऊं कि वे कहां और किस हालत में रहती हैं. ग़ाज़ियाबाद के जिस घर में वह रहती थीं उसमें उनका स्थान एक ऐसी बूढी औरत का ही था जो कब्र में पैर लटकाए बैठी हो और अब किसी के काम की नहीं है. बढती उम्र और बीमारियों ने उन्हें चिड्चिडा और मरखना बना दिया था. उन्हें उन दिनों कोई स्किन डिज़ीज़ हो गयी थी जिससे उन्हें खुजली हुआ करती थी.घर के लोग उनसे दूरी बनाकर रहते थे, जिसका कारण शायद छूत से बचना रहा होगा...उस स्मृति से ही मेरा मन अब अवसाद से भर जाता है. चूंकि दुर्गाभाभी सब कुछ भूल चुकी थीं और असंबद्ध बातें करती थीं इसलिये कार्यक्रम की संभावनाएं खारिज हो गयीं...सोचा गया था कि उनके जीवन की इन छवियों को ही दस्तावेज़ी संग्रह के तौर पर दर्ज कर लिया जाएगा...लेकिन वह हो न सका और कुछ महीनों बाद वो मर गईं.

इरफ़ान said...

आपने दुर्गा भाभी को याद करके एक सामाजिक ज़िम्मेदारी का निर्वाह किया है. हम सब को यह करना चाहिये.

www.tooteehueebikhreehuee.blogspot.com